Rājasthāna kā br̥hat itihāsa, Volume 1

Voorkant
Rājasthāna Hindī Grantha Akādamī, 1986
History of Rajasthan, 1707-1950.

Vanuit het boek

Wat mensen zeggen - Een review schrijven

We hebben geen reviews gevonden op de gebruikelijke plaatsen.

Inhoudsopgave

संघर्षरत राजस्थान 3 3
62
4 राजस्थान में मराठी का प्रवेश 1 7 10 1775 ई 1 1 8
183
6 अराजकता का युग एवम् राजस्थान में ब्रिटिश शासन की
268
Copyright

2 andere gedeelten niet weergegeven

Overige edities - Alles weergeven

Veelvoorkomende woorden en zinsdelen

अजमेर अजीतसिंह अधिकार अन्य अपनी अपने अब आदि इतिहास इन इसके उसका उसकी उसके उसने उसे एक ओर और औरंगजेब कर दिया करने के लिए का कार्य काल कि किया किया गया किया था किये की कुछ के कारण के पास के बाद के रूप में के विरुध्द के साथ को कोटा क्षेत्र गई गया था गये गुजरात जब जयपुर जयसिंह जा जाट जाने जैसलमेर जो जोधपुर तक तथा तो था था है थी थे दिये दिल्ली दी देने द्वारा नहीं नियुक्त ने पर परन्तु पुत्र पृ प्राप्त बहुत बादशाह बीकानेर भरतपुर भाग भी मराठा मराठी मराठी के महाराजा मारवाड़ मुगल में मेवाड़ यह युध्द रहा रहे राजपूत राजस्थान राजस्थान के राजा राज्य राज्य की राज्य में रुपये रूप से लगा लाख लिया वह वहां विजयसिंह वे शासक सभी समय सम्बन्ध सरकार सहायता से सेना सैनिक स्थिति ही हुआ हुई हुए है हैं हो गया होकर होता होने

Bibliografische gegevens